Friday, April 10, 2015

नारी मुक्ति मोर्चा माने या न माने ........

नपे-तुले ,कटे-छंटे
वस्त्र
धारण किये ,
हाथों में
नशीला द्रव्य लिये ,
'चुटकी जो तूने काटी है '
की धुन पर
थिरकते हुये ,
सभ्यता की हदों को
पार करते हुये....... और
दूसरी ओर
लड़कों का शोर
'अच्छी बातें कर ली बहुत
अब करूँगा
गंदी बात '……
अब नारी मुक्ति मोर्चा माने या न माने …… लेकिन अपनी गरिमा को गिराने में इन लड़कियों का हाथ भी कुछ काम नहीं.......

6 comments:

  1. हार्दिक मंगलकामनाओं के आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा कल रविवार (12-04-2015) को "झिलमिल करतीं सूर्य रश्मियाँ.." {चर्चा - 1945} पर भी होगी!
    --
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. बिलकुल सच कहा है. किसी एक को ही दोष देना उचित नहीं होगा...

    ReplyDelete
  3. सुन्दर व सार्थक प्रस्तुति..
    शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  4. सुन्दर व सार्थक प्रस्तुति..
    शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  5. बहुत सही कहा आपने |ताली कभी एक हाथ से नहीं बजती |

    ReplyDelete
  6. सच तो यही है कि इज़्ज़त अपने हाथ ही होती है ..
    बहुत बढ़िया ..

    ReplyDelete